मिठी गोबिन्दराम पब्लिक स्कूल में अभिप्रेरक सत्र का आयोजन
27-Jun- 2018
दिनांक 27.06.2018
प्रेस विज्ञप्ति
मिठी गोबिन्दराम पब्लिक स्कूल में अभिप्रेरक सत्र का आयोजन

दिनांक 27/06/2018, शहीद हेमू कालानी एज्युकेषनल सोसायटी द्वारा संचालित विद्यालय मिठ्ठी गोबिन्दराम पब्लिक स्कूल में प्रेरणा स्त्रोत परम श्रद्धेय सिद्ध भाऊजी के पावन सानिध्य में कक्षा चौथी के विद्यार्थियों हेतु अभिप्रेरक सत्र का आयोजन नवनिध सभागार में किया गया। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देष्य छात्रों की जीवन शैली में सुधार के साथ-साथ छात्रों में मानवीय मूल्यों का निरूपण करना रहा।

कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती, माँ भारती एवं ब्रह्यलीन संत हिरदाराम साहिब जी के चित्रों पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ प्रारंभ हुआ।

संस्थान के प्रेरणापुंज परम श्रद्धेय सिद्ध भाऊजी ने विद्या धन को मानव जीवन का अनमोल धन बताया। उन्होंने कहा कि इस जीवन की सार्थकता ज्ञानार्जन से परिपूर्ण होती है। अतः प्रत्येक विद्यार्थी को गंभीरता के साथ विद्यार्जन हेतु प्रयासरत रहना ही चाहिए। उन्होंने स्वास्थ्य के प्रति छात्रों को सचेत करते हुए सदैव जागरूक बनने की प्रेरणा देते हुए पौष्टिक एवं सुपाच्य आहार लेने की अपील की ताकि शरीर को सबलता प्रदान हो सके क्योंकि शरीरिक स्वास्थ्य मानसिक मजबूती के लिए भी जरूरी है। मानसिक शांति को बनाए रखने के लिए उन्होंने ईश्वर की स्तुति एवं आरती करने की बात कही। सदैव माता-पिता एवं गुरूजनों के प्रति ईमानदार बनें तथा उनके प्रति श्रद्धा भाव बनाए रखें और नियमित रूप से माता-पिता के चरण स्पर्श करें ताकि आप कभी भी दिशाहीन न हो सकें। साथ ही पशु-पक्षियांं को दाना पानी डालने के लिए प्रेरित किया तथा छात्रों से अपील की कि वे समय-सारणी बनाकर प्रातः काल उठकर अध्ययन करें, टी.वी., मोबाईल गेम्स, बाहर खुला बिकने वाला खाना खाने के नुकसान बताये और छात्रों को स्वस्थ जीवन जीवन शैली अपनाने के लिए प्रेरित किया। 
विद्यालय के प्राचार्य डॉ. अजयकांत शर्मा जी ने अपने उद्बोधन मेंं छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि विद्यार्थी जीवन किसी भी व्यक्ति के जीवन का महत्वपूर्ण अंग है, यही उसके सुखद भविष्य का निर्माण करता है। इसलिए हर विद्यार्थी को मन लगाकर विद्या-अध्ययन करना चाहिए। उन्होंने सफलतम जीवन जीने के लिए महत्वपूर्ण बातें बताई - माता-पिता की आज्ञा का पालन करना, शिक्षकों की बात मानना एवं प्रतिदिन आरती करना। उन्होंने छात्रों को बताया कि अच्छा व्यक्ति बनने के लिए आपको परम श्रद्धेय सिद्ध भाऊजी, आपके माता-पिता एवं अध्यापकगणों की बातों से सीख लेकर अच्छे-अच्छे कार्य करने हैं। हमेशा सत्य बोलना है एवं अपनी समस्याएँ शिक्षकां एवं माता-पिता से साझा करें।
विद्यालय कॉर्डिनेटर श्री देवेन्द्र शर्मा द्वारा विद्यार्थियों को अपने जीवन को सफल बनाने हेतु व्यवस्थित दिनचर्या के साथ ही पढ़ाई और खेल-कूद में सामांजस्य बनाना चाहिए। विद्यार्थी जीवन में टी.वी. और मोबाईल गेम्स को पूरी तरह से अपने से दूर कर देना चाहिए।
विद्यालय कॉर्डिनेटर श्रीमती मिनी नायर ने अपने वकतव्य में छात्रों को बताया कि रोज़ माता-पिता के चरण स्पर्श करें, माँ की हर बात मानें, बड़े-बुजुर्गों को सम्मान दें, दया, ममता, करूणा आदि भावों का अपने अंदर समावेश करें एवं प्रातः काल में पक्षियों को दाना-पानी देकर ही अन्न और जल को ग्रहण करना चाहिए। अपने शरीर और आत्मा को पवित्र रखने हेतु मासाहार का पूर्ण रूप से त्याग करना चाहिए।
अनुशासन व्यवस्था बनाये रखने में खेल विभाग के सूरज खान, संत चौराहा, चन्द्रप्रकाश एवं संगीत विभाग के शिक्षक भूपेश पाठक द्वारा महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई।
कार्यक्रम का कुषल संचालन विद्यालय की शिक्षिका निशा सिंह एवं आभार विद्यालय शिक्षिका श्रीमती शाइस्ता खान के मार्गदर्शन में कक्षा चौथी के छात्र हिमांशु सावनानी द्वारा व्यक्त किया गया।


Email
Message
Copyright © 2018 Mithi Gobindram Public School. All rights reserved.